लोकमंच पत्रिका

लोकचेतना को समर्पित
प्रियंका गाँधी वाड्रा का सियासी जुआ – रसाल सिंह

फरवरी 2022 में होने वाले उत्तर प्रदेश विधान-सभा चुनाव में जीत के लिए कांग्रेस पार्टी ने अपनी राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गाँधी वाड्रा पर दाँव लगाया हैI स्वयं प्रियंका इस चुनावी वैतरणी से पार उतरने के लिए ‘घोषणाबाजी’ की लोक-लुभावन राजनीति का जुआ खेल रही हैंI उन्होंने पिछले एक-डेढ़ महीने में लोक-लुभावन घोषणाओं की झड़ी लगाकर लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचने की कोशिश की हैI उन्होंने उत्तर प्रदेश विधान-सभा की 403 सीटों पर 40 फीसद महिला उम्मीदवार लड़ाने की घोषणा के साथ इसकी शुरुआत कीI इसके बाद उन्होंने कांग्रेस की सरकार बनने पर किसानों के कर्ज और बिजली बिल माफ़ करने की घोषणा कीI तीसरी बड़ी घोषणा लड़कियों को स्मार्टफोन और स्कूटी देने की और चौथी घोषणा नागरिकों को 10 लाख रुपये तक के मुफ्त इलाज  की सुविधा देने की हैI उन्होंने महिलाओं के लिए तीन रसोई गैस सिलेंडर और बस पास मुफ्त देने और बिजली बिल आधा करने  जैसी घोषणाएं  भी की हैं।

मंदिर में प्रियंका गांधी, लोकमंच पत्रिका
मंदिर में प्रियंका गांधी, लोकमंच पत्रिका

शिक्षा, रोजगार, व्यापार के सम्बन्ध में भी वे बहुत जल्द ऐसी कुछ लोक-लुभावन घोषणाएं करने वाली हैंI लेकिन इन घोषणाओं के बारे में आम मतदाताओं और अधिकांश चुनाव विश्लेषकों की स्वाभाविक प्रतिक्रिया यह है कि ‘न नौ मन तेल होगा, न राधा नाचेगी’; अर्थात् न तो कांग्रेस की सरकार बनेगी, और न ही इन हवा-हवाई घोषणाओं को पूरा करने की नौबत आएगीI ऐसा नहीं है कि स्वयं प्रियंका या उनकी पार्टी इस सच्चाई से अवगत नहीं हैंI फिर यह प्रश्न उठता है कि वे यह जुआ क्यों खेल रही हैं? दरअसल, उप्र में मरणासन्न कांग्रेस की जान बचाए रखने के लिए उनके पास इस तरह का जुआ खेलने के अलावा और कोई उपाय नहीं हैI लेकिन जुए ही की तरह इस दाँव का खतरा यह है कि ‘छब्बे बनने चली कांग्रेस कहीं दुबे’ बनकर न रह जाये!

प्रियंका गाँधी की इन घोषणाओं से एक सवाल यह भी उठता है कि उनकी पार्टी यह घोषणाएं पंजाब, उत्तराखंड, गोवा या मणिपुर जैसे अन्य चुनावी राज्यों में क्यों नहीं कर रही है? क्या वहाँ की महिलाओं, किसानों और गरीबों को इसकी जरूरत नहीं है? जरूरत तो है लेकिन वहाँ कांग्रेस चुनावी गुणा-गणित में है। इसलिए जुआ खेलने से परहेज कर रही है। उप्र में कांग्रेस की दुर्दशा जगजाहिर हैI इसीलिए जुआ खेला जा रहा हैI यह सवर्ण मतदाताओं को फुसलाकर भाजपा को कमजोर करने की सुचिंतित रणनीति भी हैI उल्लेखनीय है कि कांग्रेस के परंपरागत वोट बैंक रहे सवर्ण मतदाता 1989 में उसके क्रमिक अवसान के बाद भाजपा की ओर चले गये हैं। भाजपा के उभार में हिंदुत्ववादी राजनीति और सवर्ण जातियों के ध्रुवीकरण की निर्णायक भूमिका रही है।

उप्र के पिछले विधान-सभा चुनाव में समाजवादी पार्टी की बैसाखी के सहारे कांग्रेस 7 सीट और 5 फीसद मत प्राप्त कर सकी थीI इसबार समाजवादी पार्टी ने उसे झटक दिया हैI 2019 के लोकसभा चुनाव में सिर्फ सोनिया गाँधी चुनाव जीत सकी थींI तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी तक कांग्रेस परिवार की परम्परागत सीट से बड़े अंतर से चुनाव हार गए थेI इस तरह के निराशाजनक चुनाव परिणामों के बावजूद कांग्रेसियों द्वारा पिछले 4-5 साल में जमीनी स्तर पर संगठन खड़ा करने या फिर जनता के बीच जाने की जहमत नहीं उठाई गयीI पार्टी की इसी निष्क्रियता और किंकर्तव्यविमूढ़ता से त्रस्त होकर जितिन प्रसाद जैसे बड़े नेता कांग्रेस से किनारा करके सत्तारूढ़ भाजपा की नैया पर सवार हो गए हैंI

कांग्रेस के निराशाजनक वातावरण के चलते कांग्रेस के अनेक छोटे-बड़े नेता अपने भविष्य की चिंता में अलग-अलग राजनीतिक दलों  की ओर खिसक रहे हैंI वे सब अपने राजनीतिक भविष्य के प्रति आशंकित हैंI आज उप्र में कांग्रेस की हालत यह है कि उसके पास न तो नेता है, न नीति है, न संगठन है, न ही कार्यकर्त्ता हैI लल्लू के नेतृत्व में कांग्रेस आज भाजपा, सपा, बसपा जैसी पार्टियों के बाद दूरस्थ चौथे स्थान पर हैI  राष्ट्रीय लोकदल,आम आदमी पार्टी, पीस पार्टी और ए आई एम आई एम जैसे छोटे दल आगामी चुनाव में उससे आगे निकलकर चौथे स्थान पर आने की फिराक में हैंI इस परिस्थिति में प्रियंका के पास ‘घोषणाबाजी’ के जुए के अलावा विकल्प ही क्या बचता है?

प्रियंका गाँधी वाड्रा द्वारा की जा रही इन घोषणाओं के वास्तविक मायने क्या हैं? दरअसल, किसी जमाने में दक्षिण भारत से शुरू हुई लोक-लुभावन घोषणाओं और मुफ्तखोरी की यह राजनीति आज दिल्ली तक पैर पसार चुकी हैI वोट के बदले फ्री साड़ी, टी.वी, फ्रिज और बिजली-पानी देने की रणनीति यदा-कदा और यत्र-तत्र सफल भी हुई हैI संभवतः प्रियंका की प्रेरणा भी यही हैI 

प्रियंका ने महिलाओं को लुभाने के लिए उन्हें 40 फीसद पार्टी टिकिट देने का जो दाँव खेला है, उससे न तो महिलाओं का भला होने वाला है, न ही कांग्रेस पार्टी को कुछ लाभ मिलने वाला हैI कांग्रेस पार्टी के लिए चुनाव लड़ सकने वाली 161 महिला प्रत्याशियों का जुगाड़ करना टेढ़ी खीर साबित होने वाली हैI जो पार्टी ‘न तीन में है, न तेरह में है’, उसके टिकिट पर चुनाव लड़कर कोई महिला अपने राजनीतिक भविष्य को भला क्योंकर स्वाहा करेगी! यह घोषणा खाना-पूरी से अधिक कुछ नहीं हैI विडम्बनापूर्ण ही है कि जिस मंच से उन्होंने यह घोषणा की थी, उसपर मौजूद 15 लोगों में प्रियंका सहित कुल तीन ही महिलायें थींI अगर कांग्रेस पार्टी महिला सशक्तिकरण के प्रति वास्तव में गंभीर थी तो उसने यूपीए सरकार के 10 साल के कार्यकाल में महिला आरक्षण विधेयक पास क्यों नहीं किया? या फिर सांगठनिक पदों की नियुक्तियों में महिलाओं की भागीदारी क्यों नहीं बढ़ायी? अगर ऐसा किया होता तो आज उन्हें 161 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए दमखम वाली प्रत्याशियों का टोटा न पड़ता!

उत्तर प्रदेश मंडल और कमंडल की कोख से निकली जातिवादी और हिंदुत्ववादी आधारित राजनीति की प्रयोगशाला हैI 2014 और 2019 के  लोकसभा चुनावों और पिछले विधान-सभा चुनाव में जाति का जादू नहीं चलाI लोगों ने विकास और बदलाव के लिए मतदान कियाI यह देखना दिलचस्प होगा कि आगामी विधान-चुनाव में उप्र का मतदाता फिर से विकास और सुशासन के लिए मतदान करता है या फिर जातिवादी राजनीति की ओर वापसी करता हैI वर्तमान परिदृश्य में कांग्रेस के साथ न तो कोई जाति जुड़ती दिखती है और न ही उनके पास विकास एवं बदलाव का कोई विश्वसनीय मॉडल हैI प्रियंका को यह समझने की आवश्यकता है कि उप्र में कांग्रेस शून्य है और उसे किसी निर्णायक भूमिका में आने के लिए दूरगामी नीति और लम्बे संघर्ष की आवश्यकता हैI

क्या प्रियंका के पास उतना धैर्य, समय और इच्छाशक्ति है? दो-चार महीने मीडिया और सोशल मीडिया में सक्रिय रहने मात्र से उप्र जैसे राजनीतिक रूप से जागरूक राज्य में चुनाव जीतने के मंसूबे ख्याली पुलाव पकाने से अधिक कुछ नहीं हैंI महज जबानी जमा खर्च से न तो जनता को लुभाया जा सकता है, न ही भरमाया जा सकता हैI प्रियंका इस बात से अनभिज्ञ नहीं हैं कि भाजपा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, सपा अखिलेश यादव और बसपा मायावती के नेतृत्व में चुनाव लड़ रही हैI यह जानते हुए भी वे अपने चुनाव लड़ने के सवाल पर कन्नी काट रही हैंI ऐसा इसलिए है क्योंकि वे स्वयं आगामी चुनाव में होने वाले कांग्रेस के हश्र से आशंकित हैंI नेतृत्वविहीन कांग्रेस भला क्या चुनाव लड़ेगी? इसलिए प्रियंका हारते हुए जुआरी की तरह ‘घोषणाबाजी’ का दाँव खेल रही हैंI  

चुनाव लड़ने-न लड़ने को लेकर प्रियंका का ‘दोचित्तापन’ उनके वादों और दावों को संदिग्ध बनाता हैI इससे उनकी चुनावी रणनीति कमजोर पड़ती हैI उन्हें जल्दी से जल्दी निर्णय लेकर या तो खुद के चुनाव  लड़ने की स्पष्ट घोषणा करनी चाहिए या फिर सपा-बसपा जैसी किसी पार्टी की पूँछ पकड़कर यह चुनावी वैतरणी पार करने का जतन करना चाहिएI प्रियंका के इस ‘दोचित्तेपन’ और सियासी जुए के चलते साख-संकट से जूझती कांग्रेस शून्य पर सिमट जाये तो अचरज नहीं होना चाहिएI  

प्रोफ़ेसर रसाल सिंह, लोकमंच पत्रिका
प्रोफ़ेसर रसाल सिंह, लोकमंच पत्रिका

लेखक- प्रोफ़ेसर रसाल सिंह जम्मू केन्द्रीय विश्वविद्यालय में अधिष्ठाता, छात्र कल्याण हैंI  

1,116 thoughts on “प्रियंका गाँधी वाड्रा का सियासी जुआ – रसाल सिंह

  1. Thank you for every other wonderful post. Where else could anyone get that type of information in such an ideal means ofwriting? I’ve a presentation subsequent week, andI am at the look for such info.

  2. My developer is trying to persuade me to move to .net from PHP.
    I have always disliked the idea because of the costs. But he’s tryiong none the less.
    I’ve been using WordPress on a variety of websites for about a year and am nervous about switching to another platform.
    I have heard fantastic things about blogengine.net.
    Is there a way I can transfer all my wordpress posts into it?
    Any kind of help would be really appreciated!

  3. F9 Design is the premier choice for painting company services in New Jersey and throughout Southern New Jersey residential house painting contractor

  4. I need to to thank you for this excellent read!! I definitely loved every little bit of it. I have you bookmarked to check out new stuff you post…

  5. I want to to thank you for this good read!! I certainly loved every bit of it.I’ve got you bookmarked to check out new things youpost?Here is my blog: hemp seed oil uses

  6. I simply couldn’t go away your website before suggesting that I extremely enjoyed the usual information a person supply to
    your guests? Is gonna be back often in order to check up on new posts

  7. Howdy! I could have sworn I’ve been to this site before but after browsing through some
    of the post I realized it’s new to me. Anyways, I’m definitely happy I found it and I’ll be bookmarking and checking
    back often!

  8. Howdy! I know this is somewhat off topic but I was wondering if you knew where I could get a captcha plugin for my comment form? I’m using the same blog platform as yours and I’m having difficulty finding one? Thanks a lot!

  9. Thank you, I’ve recently been searching for information approximately this subject for a long time and yours is the best I have discovered till now. But, what in regards to the bottom line? Are you sure about the source?

  10. I will right away take hold of your rss as I can not in findingyour email subscription hyperlink or e-newsletter service.Do you have any? Kindly permit me recognise so that Imay subscribe. Thanks.

  11. I will immediately grasp your rss as I can not find your e-mail subscription hyperlink or e-newsletterservice. Do you’ve any? Please allow me realize in order that I mayjust subscribe. Thanks.

  12. I blog quite often and I seriously appreciate your information. Your article has truly peaked my interest. I am going to book mark your blog and keep checking for new details about once a week. I opted in for your Feed as well.

  13. I blog frequently and I really thank you for your content. The article has truly peaked my interest. I am going to take a note of your blog and keep checking for new details about once a week. I opted in for your RSS feed too. Brena Fransisco Budwig

  14. Wow that was strange. I just wrote an really long comment but after I clicked submit my comment didn’t show up. Grrrr… well I’m not writing all that over again. Anyhow, just wanted to say wonderful blog!

  15. Hmm is anyone else experiencing problems with the images on this blog loading?I’m trying to figure out if its a problem on my end or ifit’s the blog. Any responses would be greatlyappreciated.

  16. Hello There. I discovered your blog the use of msn. That is a very smartly written article. I’ll be sure to bookmark it and return to read more of your helpful information. Thank you for the post. I’ll certainly return.

  17. I’m really enjoying the design and layout of your blog. It’s a very easy on the eyes which makes it much more pleasant for me to come here and visit more often. Did you hire out a designer to create your theme? Superb work!

  18. Thank you for the auspicious writeup. It if truth be told used to be a entertainment account it.Look advanced to more delivered agreeable from you! By the way, how can wekeep up a correspondence?

  19. wonderful points altogether, you simply gained a new reader. What would you suggest in regards to your put up that you made a few days in the past? Any certain?

  20. Hi, I do think this is an excellent blog. I stumbledupon it😉 I’m going to come back yet again since i have book-markedit. Money and freedom is the greatest way to change, may you be rich and continue to helpother people.