लोकमंच पत्रिका

लोकचेतना को समर्पित

संविधान सभा में बिहार की भूमिका- पुष्यमित्र

वे 36 बिहारी जिनके विचार गूंजते हैं संविधान में- पुष्यमित्र देश में हर साल 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाया जाता है। इस दिन संविधान निर्माता डॉं. भीमराव अंबेडकर को याद किया जाता है। यूजीसी ने भी देश के सभी विश्वविद्यालयों को आदेश दिया कि वे 26 नवंबर को ‘संविधान दिवस’ के रूप में मनाएं। भारत के संविधान निर्माता के रूप में डॉ. भीमराव अम्बेडकर को जाना जाता है। इन्होंने

Read More

सिनेमा की भाषा – अरुण कुमार

शब्द, वाक्य और संवाद साहित्य की भाषा के अंग होते हैं। सिनेमा की भाषा में इनके अलावा भी बहुत कुछ ऐसा होता है जिनके माध्यम से किसी फिल्म का निर्देशक दर्शकों तक संदेशों का सम्प्रेषण करता है। सिनेमा एक दृश्य-श्रव्य माध्यम है इसलिए इसकी भाषा में संवाद के अतिरिक्त भी कई आयाम होते हैं। यही कारण है कि साहित्य और सिनेमा की समीक्षा की कसौटी भी अलग-अलग होती है। सिनेमा

Read More

कम होना चाहिए बच्चे के बस्ते का बोझ- चन्दन कुमार चौधरी

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान यानि एम्स द्वारा हाल ही में किए गए एक अध्ययन में पता चला है कि बस्ते का बोझ स्कूली बच्चों की मांसपेशियों और हड्डियों को कमजोर करता है। अध्ययन में सरकारी स्कूलों के 63 फीसदी बच्चे मांसपेशियों और हड्डियों के दर्द के शिकार पाए गए और इनमें से ज्यादातर बच्चों को एक साल से अधिक समय से दर्द था और इसकी सबसे बड़ी वजह बच्चों के

Read More